blogid : 15457 postid : 672236

किसका लोकपाल बेहतर - अन्ना या केजरीवाल का ?

Posted On: 17 Dec, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक तरफ जहां देश की राजनीतिक पार्टियां भ्रष्टाचार के खिलाफ लाए गए लोकपाल बिल को पास कराने के जद्दोजहद में लगी हुई हैं। वहीं दूसरी तरफ कभी भ्रष्टाचार और कुशासन के खिलाफ मिलकर आंदोलन छेड़ने वाले गांधीवादी अन्ना हजारे और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल लोकपाल के मुद्दे पर अलग-अलग दिखाई दे रहे हैं।


अन्ना हजारे ने मौजूदा सरकारी लोकपाल बिल का समर्थन किया है। उन्होंने इस बिल को देश की भलाई का बिल बताया है। अन्ना ने कहा, ‘हमने बिल में 16 बिंदुओं को शामिल करने के लिए कहा था। 100 फीसदी तो नहीं लेकिन अधिकांश बिंदुओं को शामिल कर लिया गया है। मैं इस बिल से संतुष्ट हूं और इसे स्वीकारता हूं। मैंने इसे देख लिया है। इसके पास होते ही मैं अनशन तोड़ दूंगा’। वहीं आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने सरकारी लोकपाल को कमजोर बताते हुए कहा कि इस बिल से भ्रष्ट राजनेताओं को तो दूर किसी चूहे तक को जेल नहीं भेजा जा सकता। आप के नेताओं ने इस बिल में सीबीआई को स्वतंत्र करने की बात कही है।


आज का मुद्दा

मौजूदा दौर में अन्ना हजारे जिस लोकपाल बिल पर सहमति जता रहे हैं क्या उससे शासन में पारदर्शिता संभव है ?


Read More:

मिशन लोकपाल नहीं, लक्ष्य है आम चुनाव

‘आप’ को न समझो पानी का बुलबुला



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

uday के द्वारा
January 2, 2014

कैजरीवाल का लॊकपाल तॊ  दिळी मै आएगा


topic of the week



latest from jagran