blogid : 15457 postid : 755048

क्या उत्तराखंड त्रासदी को हमने पीछे छोड़ दिया है?

Posted On: 16 Jun, 2014 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

क्या उत्तराखंड त्रासदी को हमने पीछे छोड़ दिया है? क्या अब राज्य सरकार भविष्य के किसी भयंकर त्रासदी से निपटने के लिए तैयार है? यह कुछ अहम सवाल हैं जिनका जवाब पूरे देश की जनता उत्तराखंड त्रासदी के एक साल पूरे होने के बाद जानना चाहेगी।


सवाल अहम हैं क्योंकि पिछले साल त्रासदी के दौरान न केवल प्रशासनिक तौर पर राज्य की नाकामियां सामने आई थीं बल्कि त्रासदी के बाद प्रबंधन के मामले में भी राज्य की मशीनरी पूरी तरह से विफल रही। इसलिए इस बार का मुद्दा बेहद संवेदनशील है:


आज का मुद्दा

क्या उत्तराखंड त्रासदी को हमने पीछे छोड़ दिया है?


Web Title : Uttarakhand Tragedy Will Happen Again



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
June 24, 2014

नहीं अब तक विजय बहुगुणा की धन की लोलुपता और भ्रष्टाचार की दुर्गन्द से केदारघाटी शुद्ध नहीं हो पायी है, उसे और उसके साथी तो पाप की गहरी खाई में गिरेंगे ही, बेचारे हरीश रावत के हिंडोले को भी नहीं बख्सेंगे ! सबको पता है की बहुगुणा सरकार के सभासदों ने १६ जूू २०१३ से और १६ जून २०१४ तक उस धरती पर दबी हुई लाशों से भी चांदी बनाई है ऐसे पापी जब तक उत्तराखंड की पवित्र भूमि में रहेंगे त्रादसी नहीं हट पाएगी !

एल.एस.बिष्ट् के द्वारा
June 27, 2014

कुछ नही बदला है । राज्य बनने के पूर्व भी उत्तराखँड ऐसा ही था और अभी भी कोइ उम्मीद नही है । दर-असल किसी को भी इस राज्य के हितोँ से कोइ लेना देना नही है । नौकरशाह नौकरी कर रहे हैँ और नेता अपनी राजनीति । कोइ भावनात्मक जुडाव कहीँ नही दिखता । इस तरह की त्रासदी झेलने के लिए यह राज्य अभिशप्त है ।

dharampalgupta के द्वारा
July 25, 2014

What has been done bu the state government to meet such situations is not visible. The rehabilitation of the last year vitims has also not been done to a satisfactory level. The road work completed to resume char dham yatra could not face even three/four day rains this uyear also and hundreds of pilgrimes were stranded foer days.


topic of the week



latest from jagran